Tuesday, July 22, 2014

इखलास-ए-इश्क में क्या करें, आओ मिल के दुनिया ही छोड़ चलें



...

इखलास-ए-इश्क में क्या करें, आओ मिल के दुनिया ही छोड़ चलें,
न हो पूरा फ़र्ज़ गर उम्मीद का, तो ख्याल-ए-दुनिया ही मोड़ चलें |
यूँ तो हर तरफ बे-रुखी सी है.............धोखा फरेब खामोशी भी है,
क्यूँ न बे-जुबां इन बुतों से हम, खुशी-गम का रिश्ता ही तोड़ चलें |  

________________________हर्ष महाजन