Friday, August 1, 2014

किस तरह तलाशा उसने मेरे दिल में आशियाँ

...

किस तरह तलाशा उसने मेरे दिल में आशियाँ,
जहाँ सदियों से खुद...इक दरीचां ढूंढ रहा हूँ मैं |


____________________हर्ष महाजन