Tuesday, August 19, 2014

लोग जज्बों की....यहाँ कदर कहाँ करते हैं

...

लोग जज्बों की....यहाँ कदर कहाँ करते हैं,
हम भी फिर दर्द कहाँ अपना जुबां करते हैं |
रूखापन उनका कहीं ज़ख्म न फानी करदे,
इन गहरे ज़ख्मों से हम उम्र धुंआ करते हैं |

_______________हर्ष महाजन