Monday, August 25, 2014

मैं था दीवार पे शीशे में था तस्वीर जड़ा

...


मैं था दीवार पे शीशे में.............था तस्वीर जड़ा,
जिसे चाहा था वो हैराँ सा........ज़मीं पर था खड़ा |
हाल-ए-दिल के थे कई फासले......जो तय न हुए,
फिर भी हालात-ए-भंवर से था मैं फिर बहुत लड़ा |

_______________हर्ष महाजन