Monday, August 18, 2014

जिसने झेलें हैं वतन के लिए सरहद पे सितम

...

जिसने झेलें हैं वतन के लिए सरहद पे सितम,
अब तलक ज़ख्म वो.....ओरों के सिये जाते हैं |
अब सियासत भी खडी..उनपे दीवारों की तरह,
पाँव किरदारों पे रख........तगमें लिए जाते हैं |

___________________हर्ष महाजन