Monday, August 18, 2014

कुछ पुराने मेरे ख़त पढ़ के रोई जाती है

...

कुछ पुराने मेरे ख़त.......पढ़ के रोई जाती है,
कम्बखत याद मुझे भी.....तो बहुत आती है |
उसके इल्जाम यूँ दिल पे पड़े खंजर से मगर,
है शमा ज़िंदा........दिया मैं हूँ तो वो बाती है | 

____________हर्ष महाजन