Monday, September 22, 2014

ऐसी कोई संघ देखी नहीं जिसे नेता खुद बर्बाद करें




...
बैंक कर्मर्चारियों की त्रासदी
ऐसी कोई संघ देखी नहीं जिसे......नेता खुद बर्बाद करें,
इतिहास के पन्नों पर लिखें......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
.
दसवें वेतन मान पे देखो............दो-दो वर्ष संवाद चले ,
रहे बन मोनी बाबा वो जन-जन फिर भी थे साथ चले |
भूल गए अब सहनशीलता......खुद की पारी नाबाद करें ,
इतिहास के पन्नों पर लिखें......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
.
सिंहासन जब हिलने लगे ....नेता गण सब अवसाद करें,
छोड़ के वेतन सरकारी वो.....द्विपक्षी की बस बात करें |
कोई उठे जन करें ट्रान्सफर मिलकर सब फिर घात करें ,
इतिहास के पन्नों पर लिखें.......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
.
आओ साथियो मैदानों में.....भर दो कण-कण खाली जो,
जोशीले नारों से हिला दो.........भ्रष्टाचार के सवाली जो |
कह दो इन्हें अब छोड़ें जिद्द यूँ....वेतन पर न बवाल करें ,
इतिहास के पन्नों पर लिखें.......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
.
हाथ में चूड़ी पहन के अब तुम वक्त का न इंतज़ार करो,
उठो जंग में संग चलो.........हर जन वेतन की बात करो |
मिले जो नेता टूट पड़ो जो.......वेतन के इलावा बात करे,
इतिहास के पन्नों पर लिखें.......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
.
ऐसी कोई संघ देखी नहीं जिसे.......नेता खुद बर्बाद करें,
इतिहास के पन्नों पर लिखें.......ज्यूँ फांसी जल्लाद करे |
__________________हर्ष महाजन