Thursday, October 23, 2014

कई दुश्मन दुश्मनों के बहुत ही करीब देखें हैं

...


कई दुश्मन दुश्मनों के बहुत ही करीब देखें हैं,
उम्र गुजरी मुकालते में ऐसे बदनसीब देखे हैं |
किस तरह नपेगी ये दोस्ती इस माहौल में 'हर्ष'
हमने तो दोस्तों में भी बहुत से रकीब देखें हैं | 


___________हर्ष महाजन