Thursday, October 23, 2014

दुश्मन दुश्मन की तस्वीर लिए फिरते हैं

....

दुश्मन दुश्मन की तस्वीर लिए फिरते हैं,
अपने अपनों की जागीर लिए फिरते हैं |
अब इतने भी तो बदनसीब नहीं हैं हम 'हर्ष'
हम दिल में उनकी ताबीर लिए फिरते हैं |

_______हर्ष महाजन