Wednesday, October 8, 2014

उनकी आँखों में मुझे लुत्फ़-ए-शराब आता है

...

उनकी आँखों में मुझे, लुत्फ़-ए-शराब आता है,
वर्ना नफरत-ओ-शिकायत ही...जुबां पर होती |
उनकी जुल्फों के तले...होतीं नश-ए-मन नींदें,
वर्ना अब तक तो वो खंज़र के निशां पर होती |

______________हर्ष महाजन