Wednesday, November 19, 2014

गरूर नहीं है मुझको अपनी कलम का ऐ परवरदिगार



..

गरूर नहीं है मुझको अपनी कलम का ऐ परवरदिगार,
अपने शेरों की हिफाज़त रखना मेरा फ़र्ज़ भी तो है |

_____________________हर्ष महाजन





Garoor nahiN hai mujhko apni kalam ka ai parvardigaar,
Apne sheroN kii hifazat rakhna…… mera farz bhi to hai.

____________________________Harash Mahajan