Friday, November 14, 2014

जब भी महसूस हुआ उनकी रुसवाई का कोई भी सबब

...

जब भी महसूस हुआ उनकी रुसवाई का कोई भी सबब,
देर तक तन्हाई में बस छुप-छुप कर रोया किये था मैं |
कितना सकूं लिया मैंने सूखे ज़ख्मों को कुरेद-कुरेद कर,
नासूर न बन जाएँ कहीं रुक-रुक कर धोया किये था मैं |

_______________हर्ष महाजन