Monday, November 17, 2014

रुह के हसीन लिबास को....इस तरह बे-पर्दा न कीजिये

...

रुह के हसीन लिबास को....इस तरह बे-पर्दा न कीजिये,
कुछ लोग गुस्ताख हैं जिन्हें इतना भी दर्जा न दीजिये |

________________हर्ष महाजन

...

Ruh ke haseen libaas ko is tarah be-parda na keejiye,
Kuch log Gutaakh haiN jinhe itna bhi darja na deejiye.

__________________Harash Mahajan