Thursday, November 20, 2014

आँखों से टपकता हर कतरा आंसू होगा तुम क्या जानों

Puraani Diary se kuch edit ke saath :-


...
आँखों से टपकता हर कतरा आंसू होगा तुम क्या जानों,
दे खुशियों में भी संग मिरा , आंसू होगा तुम क्या जानों |

जब रूह तडपे फिर चश्म झरें, उनको ही आंसू कहते हैं,
जब कपट झरे अखियन से ज़रा, आंसू होगा तुम क्या जानों |


गम में वो कभी दामन में गिरें, उनको ही आंसू कहते हैं,
कभी टपक पड़े बैरंग कतरा, आंसू होगा तुम क्या जानों |


यूँ ख़्वाबों में अखियाँ नम हों कभी उनको ही अनसु कहते हैं,
जब छल बन पलकों से उतरा, आंसू होगा तुम क्या जानों |


जब कतल हों अरमां टपक पड़ें उनको ही आंसू कहते हैं,
गर बे-मौसम अखियों से गिरा, आंसू होगा तुम क्या जानों |
__________________हर्ष महाजन

...
AakhoN se Tapakta her katra, aansu hoga tum kya jano,
De khushiyoN meiN bhi sang mira, aansu hoga tum kya jano.

Jab rooh tadpe phir chashm jhareiN, unko hi aansoo kehte haiN
Jab kapat jhare Akhian se zara , aansu hoga tum kya jano.


Gum meiN woh kabhie daman meiN gireiN, unko hi aansu kehte haiN,
kabhi tapak pade bairang katra, aansu hoga tum kya jano.


YuiN khwaboN meiN akhiyaN num ho kabhi, unko hi aansoo kehte haiN,
Jab chhal ban palkoN se utra, aansu hoga tum kya jano.


Jab katal hoN armaN tapak padeiN, unko hi aansoo kehte haiN,
Jab be-mousam akhiyoN se gira, aansu hoga tum kya jano.



____________________Harash Mahajan