Monday, November 24, 2014

कोई कर दे मुझ में शुमार-ए-इश्क

...

कोई कर दे मुझ में शुमार-ए-इश्क,
कोई दे दे मुझ को...उधार-ए-इश्क |
मैं हूँ बहुत दिनों से.….उदास यहाँ,
दिल में हुआ अब..बुखार-ए-इश्क |



Koii kar de mujh meiN shumaar-e-ishQ
KOi De de mujh ko…….udhaar-e-IshQ,
MaiN huN Bahut diloN se udaas yahaN
Dil meiN hua..……..ab bukhaar-e-ishQ.



______हर्ष महाजन