Thursday, November 27, 2014

इक उम्र बेताबियों में जो गुजरी थी आज तक


...

इक उम्र बेताबियों में जो गुजरी थी आज तक,
वो शब् भी मिल गयी मुझे पहलू-ए-यार तक |

 …

Ik umra betabiyoN meiN jo Guzri thi aaj tak
Wo shab bhi mil gayii mujhe Pehlu-E-Yaar tak.




__________Harash mahajan