Sunday, November 23, 2014

मुझको आता ही नहीं लफ्ज़-ए-शायरी का हुनर


...

मुझको आता ही नहीं लफ्ज़-ए-शायरी का हुनर,
मैंने जो छेडी ग़ज़ल आज फ़क़त उसकी खातिर |

...


Mujhko aata hi nahiN lafz-e-shayrii ka hunar,
Maine jo chhedi Ghazal aaj faqat uski khaatir.




_________________हर्ष महाजन