Friday, November 28, 2014

अब तो ज़माने में भी नहीं है चलन नरम मिजाजी का 'हर्ष'

...

अब तो ज़माने में भी नहीं है चलन नरम मिजाजी का 'हर्ष',
दामन में गर अश्क भी गिरे तो खनक की आवाज़ आती है |

...

Ab toh zamaane maiN bhi nahiN hai chalan naram mizaazi ka 'harash',
Daaman meiN gar ashq bhi gire toh........... khanak ki aawaaz aati hai.

_____________हर्ष महाजन