Saturday, November 8, 2014

मेरा दिल फ़क़त चाहता था बस इक बार नज़र भर देख ले

...

मेरा दिल फ़क़त चाहता था बस इक बार नज़र भर देख ले,
पर क्या गरज थी उसे जो मुझमें गर हमसफ़र भर देख ले |
ये तो मैं ही था मेरा हौंसिला.....कि उसके दर को छू लिया,
मेरे बाद उसकी गली में कोई..........और नज़र भर देख ले | 

__________________हर्ष महाजन