Sunday, November 9, 2014

अपने होटों पे सदा हम तो दुआ रखते हैं

...
अपने होटों पे सदा.......हम तो दुआ रखते हैं,
बे-वफाओं से भी हम तो....अब वफ़ा रखते हैं |

है हुनर चुपके से धड़कन में.....उतर जाने का,
चाहे दुश्मन जो बहुत...दिल में सजा रखते हैं |

ज़िंदगी दी है खुदा ने....तो संग दी है अदा भी ,
पर उठे उंगली न नियत पर ये अना रखते हैं |

हम तो प्यासे बहुत...नदिया तलाश करते हैं,
गुज़रे लम्हों की.....फिजाओं में हवा रखते हैं |

थी दुआ उनकी चले जाएँ उनकी ज़िंद से सदा,
हो असर इतना दुआओं में....ये दुआ रखते हैं |

_______________हर्ष महाजन


...

Apne hotoN pe sadaa ham toh dua rakhte haiN,
Be-wafaoN se bhi ham toh ab wafa rakhte haiN.

Hai hunar chupke se dhaRkan meiN utar jane ka,
Chahe dushman jo bahut dil meiN saja rakhte haiN.

Zindagi dii hai khuda ne sang dii hai adaa bhi,
Par uthe unglii na niyat par ye anaa rakhte haiN.

Ham toh pyaase bahut nadiya talaash karte haiN,
Guzre lamhoN kii phizaoN meiN hawaa rakhte haiN.

Thi dua unki chale jaayeN unki zind se sadaa,
Ho asar itna duaaoN meiN ye duaa rakhte haiN .

__________________Harash Mahajan