Friday, December 19, 2014

क्यूँ छलकते हैं ये सागर, ऐसे मंज़र क्यूँ यहाँ,

...

क्यूँ छलकते हैं ये सागर, ऐसे मंज़र क्यूँ यहाँ,
मुझे कोई ज़ख्म नहीं, दर्द नहीं, गम भी नहीं |


...

KyuN chhalakte haiN ye saaGar, aise manzar, kyuN yahaaN,
Mujhe koii Zakhm nahiN..............dard nahiN, Gam bhi nahiN.

[saaGar=wine cup; manzar=scene]

__________________Harash Mahajan