Wednesday, December 3, 2014

गर बाग़ रहे खिजाँओं में बंज़र नहीं होता



गर बाग़ रहे खिजाँओं में बंज़र नहीं होता,
बेवफा के हाथों में कभी खंज़र नहीं होता |



Gar baag rahe khizaaoN meiN……banjar nahiN hota,
Bewafa ke haathoN meiN kabhi khanjar nahiN hota.

______________हर्ष महाजन