Thursday, December 4, 2014

दरख्तों के साये में कभी मुझ संग आराम किया किये

....
.
दरख्तों के साये में कभी......मुझ संग आराम किया किये,
शख्स खुश मिजाज़ थे वो मगर अब बदनाम किया किये |

 ...

DrakhtoN ke saaye meiN kabhi mujh sang aaraam kiya kiye
Shaks Khush mizaaz tha woh......agar ab badnaam kiya kiye



___________________Harash Mahajan