Wednesday, December 3, 2014

कितने भी दिल में ज़ख्म हों कितने भी हों जज़्बात

...
कितने भी दिल में ज़ख्म हों कितने भी हों जज़्बात,
पत्थर ही समझेगी ये दुनिया न समझेगी औकात |
...
Kitne bhi dil meiN zakhm hoN kitne bhi hoN Jazbaat,
Pathhar hi samjhegi ye duniyaaN na samjhegi oukaat.

__________________Harash Mahajan