Sunday, December 7, 2014

मुझे नाज़ है तू नसीब है

...

मुझे नाज़ है तू नसीब है,
मेरी ज़िन्दगी के करीब है |

तुझे इतनी भी तो खबर नहीं,
मेरा इश्क तुझसे अजीब है |

मैं तो छोड़ दूं ये जहां अगर,
कोई ओर तेरा हबीब है |

तिरे गम से गर मैं जुदा हुआ,
न तू ये समझना नसीब है |

.
मेरा दिल बहुत है उदास अब, ,
ज्यूँ सर पे मेरे सलीब है |

______हर्ष महाजन

...

Mujhe naaz hai tu naseeb hai,
merii zindagi ke kareeb hai.

tujhe itni bhi toh khabar nahiN,
mera ishq tujhse ajeeb hai.

MaiN to chhod dooN ye jahaaN agar,
koii or tera habeeb hai.

Tere Gam se gar main juda hua ,
Na tu ye samajhna naseeb hai.

Mera dil bahut hai udaas ab,
JyuN sar pe mere saleeb hai.


_________Harash Mahajan