Wednesday, December 24, 2014

मुद्दत बाद बरसी है मेरी आखें किसी की खातिर

...

मुद्दत बाद बरसी है मेरी आखें किसी की खातिर,
इक अरसे बाद दिल की ज़मीं फिर से हरी हुई है |

...

Muddat baad barsii haiN merii ankheiN kisii kii khatir
Ik arse baad dil kii zameen phirr se harii hui hai.


___________Harash Mahajan