Friday, January 16, 2015

आओ चलेंगे हम भी खुश्बू के शहर में

...

आओ चलेंगे हम भी खुश्बू के शहर में,
ग़ज़लें पड़ी हैं मेरी कुछ कर लें बहर में |


...

Aao chaleNge ham bhi khushboo ke shahr meiN,
GhazleiN padi haiN merii kuch kar leiN bahr meiN.



_____________Harash Mahajan