Wednesday, January 7, 2015

तेरी सोच का सफ़र कहाँ तक है सब जानता हूँ

...

तेरी सोच का सफ़र कहाँ तक है सब जानता हूँ,
अपने क़दमों को यहीं पर रोक ले तो अच्छा है |

...
Terii soch ka safar kahaN tak hai sab jaanta huN,
Apne kadmoN ko yahiN per rok lle toh achha hai.

______________Harash Mahajan