Monday, February 2, 2015

कब तलक तुम यूँ ही परदे में रखोगे खुद को

....

कब तलक तुम यूँ ही परदे में रखोगे खुद को,
इक कली हूँ बस तेरे लिए खिलना चाहती हूँ ।

----------------------हर्ष महाजन

Kab talak yun hi parde mein rakhoge khud ko
Ik kali hun bas tere liye khilna chahti huN.

-----------------------------Harash Mahajan