Monday, March 16, 2015

किस तरह दिल के दरीचों से निकलता है

...

किस तरह दिल के दरीचों से निकलता है,
इक अरमान है बस तेरे लिए पिघलता है ।


------------------हर्ष महाजन