Thursday, April 30, 2015

मुद्दतों बाद मुक्त हुआ हूँ तेरी डायरी से ऐ 'हर्ष'

...

मुद्दतों बाद............मुक्त हुआ हूँ तेरी डायरी से ऐ 'हर्ष',
महफ़िल-ए-ग़ज़ल हूँ मगर जुबां पर उतरने से डरता हूँ |


_________________हर्ष महाजन