Thursday, April 9, 2015

मुझको काज़ल की तरह आँखों में घुल जाने दो



...

मुझको काज़ल की तरह आँखों में घुल जाने दो,
रेशमी जुल्फों को........मेरे रुख पे चले आने दो |
जाने कब तक है मिली अब ये महोलत मुझको,
अपनी बाहों में तुम, मुझे आज बिखर जाने दो |

___________हर्ष महाजन