Friday, May 15, 2015

बेचकर क्या ज़मीर....इंसा रह पायेगा



...
बेचकर क्या ज़मीर....इंसा रह पायेगा,
दौलतों का वज़न क्या वो सह पायेगा |
जिस अना पे टिकी थी कली शाख पर,
गर टूटी क्या शिकवों को सह पायेगा |

_______हर्ष महाजन