Wednesday, May 27, 2015

आइये आज समंदर को बदल डालें

...

आइये आज समंदर को बदल डालें ,
मेरे कुछ शेर हैं उनमें वज़न डालें |
मगर बदलूं कैसे बदनसीब मुक़द्दर,
चलो हाथ की लकीरों में खलल डालें |

_____________हर्ष महाजन