Wednesday, June 3, 2015

मेरी जिंद का ये सफ़र इस तरह तमाम किया

...

मेरी जिंद का ये सफ़र इस तरह तमाम किया,
लिख रुक्सत मुझे खुदा ने......अहतराम किया |
उसकी महफ़िल में तल्ख़ आब तो बहुत है मगर,
सकूंन-ए-ज़िंदगी का........यूँ ही इंतजाम किया | 


________________हर्ष महाजन