Thursday, June 4, 2015

बे-वफ़ा से कभी सुलह न करना

...
बे-वफ़ा से कभी सुलह न करना,
दर्द गर है उसका जुदा न करना |
लूटा खूब होगा कशिश ने उसकी,
मगर फिर से उसे खुदा न करना |
__________हर्ष महाज