Sunday, June 7, 2015

नश्तर-ए-ज़ुबाँ ने उसके अब इस कदर पर हैं कुतरे

,,,

नश्तर-ए-ज़ुबाँ ने उसके अब इस कदर पर हैं कुतरे,
अब खुद परिशां है कि वो तन्हाई में कहाँ तक उतरे ।

------------------हर्ष महाजन