Sunday, November 22, 2015

खुदकशी करना इतना भी तो आसां नहीं है 'हर्ष'

...

खुदकशी करना इतना भी तो आसां नहीं है 'हर्ष',
किस तरह संवरेगी ज़िन्दगी मेरे जाने के बाद |

_________________हर्ष महाजन