Wednesday, January 6, 2016

मेरी उलझनों को और भी उलझा देते हो

...

मेरी उलझनों को और भी उलझा देते हो,
इतना सताया तुम्हें फिर भी दुआ देते हो |

__हर्ष महाजन