Monday, November 2, 2015

कुछ ख्यालात तेरे, संग हैं तन्हाईयाँ मेरी

...

कुछ ख्यालात तेरे, संग हैं तन्हाईयाँ मेरी,
इसे तेरा प्यार कहूँ या कहूँ मैं हुनर अपना |

____________हर्ष महाजन