Friday, January 16, 2015

ग़ज़ल- आओ चलेंगे हम भी खुश्बू के शहर में

...
आओ चलेंगे हम भी खुश्बू के शहर में,
ग़ज़लें पड़ी हैं मेरी कुछ कर लें बहर में |

गर लिख दूं अपनी यादें किताबों की तरह,
होंगे बहुत से बलवे फिर यूँ ही शहर में |

कैसे बनेगा गुलशन अब फूलों के बिना,
उजड़ी हैं कलियाँ इतनी रिश्तों के ज़हर में |

गर खौलते है वो अब यूँ पानी की तरह,
हम आफताब-ए-गम से जलते दोपहर में |

अब कौन जाने कीमत जज्बातों की ‘हर्ष’,
कैसे बचाऊँ इनको अल्फासों के कहर में |



Aao challenge ham bhi khushboo ke shahar meiN,
GhazleiN padi haiN merii kuch kar leiN baher meiN.

Gar likh dooN apni yaadeiN kitaaboN kii tarah,
HoNge bahut se balve phir yuN hi shahar meiN.

Kaise banega gulshan ab phooloN ke bina,
Ujadii hai kaliyaN itni rishtoN ke zahar meiN.

Gar khoulte haiN who ab yuN paani ki tarah,
Ham aaftaab-e-gam se jalte do-pahar meiN.

Ab koun jaane qeemat jazbaatoN kii ‘harash’,
Kaise bachaooN inko alphaasoN ke kahar meiN.


__________हर्ष महाजन