Friday, March 20, 2015

गर इशारों में जो होती महोब्बत की ज़मीं


...

गर इशारों में जो होती......महोब्बत की ज़मीं,
तो यकीनन अल्फासों को.......शिकायत होती |
हर वो पत्थर के मुक़द्दर....में नहीं होना खुदा,
फिर वो पत्थर से दिल पे क्यूँ इनायत होती |

____________हर्ष महाजन