Tuesday, March 3, 2015

रिश्ते निभाना इतना भी तो आसां नहीं है 'हर्ष',

...

रिश्ते निभाना इतना भी तो आसां नहीं है 'हर्ष',
लफ़्ज़ों के दरमियाँ समझने को और कुछ भी है |

________________हर्ष महाजन