Sunday, December 25, 2016

ग़लतफहमी इतनी कि वफाओं में भी गम निकले

...

ग़लतफहमी इतनी कि वफाओं में भी गम निकले,
तूफ़ां उठा ऐसा कि पुराने खत भी सभी नम निकले ।

हर्ष महाजन