Wednesday, October 12, 2011

अपनी बेकसी पे

अपनी बेकसी पे कभी अश्क बहाना न 'हर्ष'
ये वक़्त गुज़रा है कुछ और गुज़र जाएगा |

____________हर्ष महाजन