Sunday, October 30, 2011

दिल में अहसास

मेरे दिल में अहसास का बस एक ही अहाता है
न जाने क्यूँ , वो  शख्स उसमें ही उतर जाता है |

______________हर्ष महाजन