Friday, December 5, 2014

जीने नहीं देता मुझे गरूर शख्स का

...

जीने नहीं देता मुझे गरूर शख्स का,
भूला नहीं हूँ अब तलक सरूर शख्स का |

ये हिचकियाँ आतीं मुझे यूँ रोज़ रात भर,
शायद मिजाज़ बदला है ज़रूर शख्स का |

तकदीर ने कुछ ख़्वाब थे पल में मसल दिये,
बर्बाद कर गया मुझे मगरूर शख्स का |

वो टूट कर बिखरा था यूँ अश्कों में तर-ब-तर,
कुछ साजिशों से छल गया शऊर शख्स का |

मैं चीखता हूँ ख़्वाब में अंजाम सोच कर,
अब लूट लो है इल्तिजा गरूर शख्स का |

______________हर्ष महाजन

...

Jeene nahiN deta mujhe garoor shaks ka,
Bhoola nahiN huN ab talak saroor shaks ka.

Ye hichkiyaaN aatiN mujhe yuN roz raat bhar,
Shayad mizaaz badla hai zaroor shaks ka.

Takdeer ne kuch khwaab th pal meiN masal diye,
Barbaad kar gayaa mujhe magroor shaks ka.

Woh toot kar bikhra tha yuN...ashqoN meiN tar-b-tar,
kuch saajizhoN se chhal gaya sha’oor shaks ka.

MaiN cheekhta huN khwaab meiN anjaam sochkar,
Ab loot lo hai iltiza .garoor shaks ka.

__________Harash Mahajan