Wednesday, December 3, 2014

सर-ए-आम यूँ ही जुल्फ संवारा न कीजिये





...

Puraani dairy se :-
...

सर-ए-आम यूँ ही जुल्फ संवारा न कीजिये
बे-मौत हमको हुस्न से मारा न कीजिये |

लहराते हैं यूँ गेसू कि दिल भी मचल उठे,
काँधे को यूँ अदा से उसारा न कीजिये |

रुखसार पर परेशान हो बरपा रहीं कहर,
इन नागिनों सी ज़ुल्फ़ आवारा न कीजिये |

कुंडल बनी है लट तिरी आँखें हैं छल रहीं,
आ आ के ख्वाब में यूँ इशारा न कीजिये |

जब झटकते हो ज़ुल्फ़ मेरी शायरी बने,
अब बाँध इनको जाम तो खारा न कीजिये |

ये ज़ुल्फ़ यूँ गिराईं तूने दिल दहल उठा,
है इल्तिजा ये भूल दूबारा न कीजिये |

...

Sar-e-aam yuiN hi Zulf sanwara na keejiye
Be-mout hamko husn se mara na keejiye.

Lehraate haiN gaisoo ki dil bhi machal uthhe,
Kandhei ko yuiN adaa se usaara na keejiye.

Rukhsaar per pareshaan barpa rahieN keher,
In naginoN si ZulfeiN ab awara na keejiye.

Kundal bani hai lat tiri, aankheiN haiN chhal rahieN,
Aa-aa ke mere khwaab maiN yuN ishara na keejiye.

Jab Jhatakte ho zulf miri shayari bane,
Ab baandh inko jaam toh khara na keejiye.

Ye zulf yuiN Girayii toone dil dehal uthha,
Hai iltaza yei bhool dubara na keejiye.
_____________हर्ष महाजन