Monday, April 12, 2021

कौन जाने इतना गहरा किसका नश्तर था चला

 ★★★★★★★नज़्म★★★★★★★★


अनकही बातें न जानें दिल में कितनी ले गया,

उँगलियाँ अपनों की यूँ....दांतों तले वो दे गया ।


कौन जाने इतना गहरा किसका नश्तर था चला,

अपने हाथों, की लकीरों....,..को दगा वो दे गया ।  


क्या चलेगी बेगुनाही.....की कलम अबकी यहॉं ?

किसने दी ऐसी सज़ा.....वो ज़िंदगी ही से गया ।


है दुआ, बातों से निकले.....राह कोई अब यहाँ,

वर्ना लिख देना जहाँ में, अपना, अपनों से गया ।


थी शिकायत उससे.......पाबंदी-ओ-शर्तें बेसबब,

बिन अदालत आपकी ख़ातिर वो जाँ तक दे गया । 


कितना तड़पा होगा वो उस आख़िरी पल में फ़क़त,

लिख मुकद्दर, ख़ुद वो अपना, रूह जहाँ से ले गया ।


ये खुदा की नैमतें हैं.........हम सभी ज़िंदा खड़े,

कौन जाने किसने जाना था.....किसे वो ले गया ।


पूजा कर-कर उम्र बीती दिल में क्यों नफ़रत अबस,

अब वो महफ़िल में नहीं पर दिल में नफरत ले गया ।


कुछ के दिल में थी अदावत* कुछ में रिश्ता नाम का,

इस तरह, वो संग, सबके रंजो गम......सब ले गया ।


रंजिशें किसकी थीं कितनी, ज़ह्र भी इतना था उफ़,

ऐ ख़ुदा तू ये बता अब.......ये गुनाह किस पे गया ।

 

इससे ज़्यादा ये तमाशा...........कौन देखेगा यहॉं,

तज़रुबा अपने हलातों.............का मगर वो दे गया ।


------हर्ष महाजन 'हर्ष'


*अदावत = शत्रुता


बह्र तर्ज़: आपकी नज़रों ने समझा प्यार के काबिल मुझे


2122 2122 2122 212


◆◆◆

11 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (14-04-2021) को  ""नवसम्वतसर आपका, करे अमंगल दूर"  (चर्चा अंक 4036)  पर भी होगी। 
    --   
    मित्रों! चर्चा मंच का उद्देश्य उन ब्लॉगों को भी महत्व देना है जो टिप्पणियों के लिए तरसते रहते हैं क्योंकि उनका प्रसारण कहीं भी नहीं हो रहा है। ऐसे में चर्चा मंच विगत बारह वर्षों से अपने धर्म को निभा रहा है। 
    --
    भारतीय नववर्ष, बैसाखी और अम्बेदकर जयन्ती की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --  

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय रूपचंद्र शास्त्री जी, मेरी इस प्रविष्टि को अपने प्लेटफार्म पर आदरपूर्वक स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार ।
      शुक्रिया और आपको भी
      नववर्ष ओर बैसाखी औऱ अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएं ।

      Delete
  2. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया ।

      Delete
  3. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. ओंकार जी ज़र्रानवाज़ी का बहुत बहुत शुक्रिया । खुश रहिये आबाद रहिये ।

      Delete
  4. सुंदर ग़ज़ल
    लय बद्ध।
    उमर्दा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया मन की वीणा जी ।

      Delete
  5. Replies
    1. शुक्रिया Sawai Singh Rajpurohit जी

      Delete