Thursday, July 10, 2014

अपने लिए जी लें तो क्या, अपने लिए मर लें तो क्या



...

अपने लिए जी लें तो क्या, अपने लिए मर लें तो क्या,
लहरों से,रिश्ते ताक़ पर, उन पर ग़ज़ल पढ़ लें तो क्या |

न थकन कोई न खलिश कोई, महफ़िल-ए-मोहब्बत सज़ गयी,
दौर-ए-ग़ज़ल चलता रहा, ये शौक़ हम कर लें तो क्या |


ये ज़िंदगी है अजीब सी, है मौत उसकी हमसफ़र,
नोक-ए-कलम सी मुख़्तसर, अब दोस्ती सर लें तो क्या |

हम हैं तलाश-ए-यार में, कोई ज़मीं छोडी नहीं,
गर महज़बी हो क़ैद में, कोई
फ़ुसूँ कर लें तो क्या |

अब रास्ता लगे धूल सा, वो भी ज़बीं पे लिखी नहीं,
अब क्या खुदा से गिला करें, इस गम में अब मर लें तो क्या |

____________हर्ष महाजन







फ़ुसूँ = जादू
ज़बीं = पेशानी.